Hindi English Friday, 01 March 2024
BREAKING
साहित्यकारों, लेखकों, प्रदर्शनीकारों, कलाकारों की उम्दा भागीदारी के साथ सम्पन्न हुआ ‘सिख आर्ट एंड फिल्म फेस्टिवल 2024’ सिट्को ने जीएमएसएस-10 चंडीगढ़ के छात्रों के लिए एफएएम टूर आयोजित किया पंजाब दे शेर ने सेलिब्रिटी क्रिकेट लीग के अंतर्गत लांच की अपनी टीम जर्सी मुख्यमंत्री ने होटल वाइल्ड फ्लावर हॉल पर सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय का स्वागत किया मुख्यमंत्री ने लोक निर्माण विभाग के 15 टिप्परों को रवाना किया ब्रहाज्ञान के द्वारा ही सहज अवस्था प्राप्त की जा सकती है - माता सुदीक्षा मस्त मस्त गर्ल रवीना टंडन का जलवा बिखरा फेमिना के कवर पेज पर चंडीगढ़ संगीत नाटक अकादमी द्वारा 'श्री राम कला उत्सव' का आयोजन अपने लगातार पांचवें संस्करण के साथ एक बार फिर लौटा सिखलेंस नर्सिंग कॉलेजों में दाखिला प्रक्रिया बने सरल, पंजाब की छात्र प्रतिभाओं को मिलेगा बल, नर्सिंग कॉलेज संघ का आह्वान

धर्म – संस्कृति

छठ पर्व

छठ पर्व

छठ का पावन पर्व छठ मैया को समर्पित अब देश और विदेश के हर कोने में बङे सद्भाव और पवित्रता के साथ मनाया जाता है,जो पहले बिहार और पूरबिया उत्तर प्रदेश में सिर्फ मनाया जाता था,जहां कहीं भी ऐसे निवासी अब अपना घर मन चुके हैं.यह पर्व सात्विक और साक्षात् सूर्य-वरूण को समर्पित एक सत्य शाश्वत पर्व है.इसमे आध्यात्म के साथ कई वैज्ञानिक पहलू भी जुङा है.

5 जून को चंद्र ग्रहण - मदन गुप्ता सपाटू

5 जून को चंद्र ग्रहण - मदन गुप्ता सपाटू

भारत के बहुत से पंचागांे में 5 जून के इस चंद्र ग्रहण का उल्लेख ही नहीं किया गया है क्योंकि यह उपच्छाया ग्रहण होगा और अफ्रीका, आस्ट्र्ेलिया , युरोप में ही अधिक दिखेगा। इसी लिए ज्योतिषियों के एक वर्ग ने सूतक काल को विशेष महत्व नहीं दिया है और न ही इसके प्रभाव को और किसी खास सावधानी बरतने को। चूंकि ग्रहण रात में है, लॉकडाउन के कारण मंदिर अभी खुले नहीं हैं, अतः यह ग्रहण सोते समय ही निकल जाएगा। अतः भारत के वासियों को अधिक चिंता की आवश्यकता नहीं है। फिर भी इस ग्रहण की हम पूरी जानकारी दे रहे हैं।

जानलेवा सनस्ट्रोक से बचाव में ही भलाई है

जानलेवा सनस्ट्रोक से बचाव में ही भलाई है

गर्मी में लू लगना एक आम समस्या है। जरा-सी असावधानी भी घातक हो सकती है। सनस्ट्रोक या लू लगना एक मेडिकल कंडीशन है। लेकिन ये खतरनाक भी हो सकती है। दरअसल मानव का शरीर स्वयं अपना तापमान नियंत्रित करता है। जब आसपास का तापमान बढ़ता है तो हमारा शरीर भी गर्म होने लगता है तापमान जरूरत से ज्यादा न बढ़ जाए, उसे नियंत्रित रखने के लिए पसीना निकलता है पसीने का वाष्पीकरण होने से शरीर में ठंडक महसूस होती है तथा शरीर का तापमान घट जाता है।

21 अप्रैल की अक्षय तृतीया इस बार अत्याधिक शुभ

21 अप्रैल की अक्षय तृतीया इस बार अत्याधिक शुभ

चंडीगढ़ - ज्योतिशीय दृश्टि से चार अबूझ व स्वयंसिद्ध मुहूर्त हैं जिसमें किया गया कोई भी कार्य चिर स्थाई एवं शुभ माना जाता है। चैत्र शुक्ल प्रतिपदा, अक्षय तृतीया, दशहरा तथा दीवाली। अक्षय का अर्थ है जिसका क्षय न हो। यह तिथि भगवान परशुराम जी का जन्मदिन होने के कारण परशुराम तिथि और चिरंजीवी तिथि भी कहलाती है। त्रेता युग का आरंभ भी इसी तिथि से माना गया हैं, अतः इसे युगादितिथि भी कहा गया है।

आइए जानें कैसा रहेगा आपका आज का दिन शुक्रवार 1०-०4-2०15

आइए जानें कैसा रहेगा आपका आज का दिन शुक्रवार 1०-०4-2०15

1० अप्रैल, तिथि 6, वार शुक्र, नक्षत्र ज्ये., योग वरी, चंद्रमा धनु राशि में प्रवेश

आइए जानें कैसा रहेगा आपका आज का दिन वीरवार ०9-०4-2०15

आइए जानें कैसा रहेगा आपका आज का दिन वीरवार ०9-०4-2०15

आज का पंचांग 9 अप्रैल, तिथि 5, वार गुरू, नक्षत्र अनु., योग व्य., चंद्रमा वृश्चिक राशि में प्रवेश

आइए जानें कैसा रहेगा आपका आज का दिन बुधवार ०8-०4-2०15

आइए जानें कैसा रहेगा आपका आज का दिन बुधवार ०8-०4-2०15

8 अप्रैल, तिथि 4, वार बुध, नक्षत्र अनु., योग सिद्धि, चंद्रमा वृश्चिक राशि में प्रवेश

आइए जानें कैसा रहेगा आपका आज का दिन

आइए जानें कैसा रहेगा आपका आज का दिन

मंगलवार ०7-०4-2०15

7 अप्रैल, तिथि ३, वार मंगल, नक्षत्र विशा, योग वज्र, चंद्रमा वृश्चिक राशि में प्रवेश

4 अप्रेल को चंद्र ग्रहण

4 अप्रेल को चंद्र ग्रहण

इस साल का दूसरा ग्रहण, चंद्रमा पर, 4 अप्रैल को भारत के लगभग कई भागों में दिखेगा। हालांकि एस्ट्रानामी विज्ञान के अनुसार ग्रहण लगना एक खगोलीय घटना है। सूर्य, चंद्र और पृथ्वी जब एक सीध में होते हैं और धरती की परर्छाइं च्रद्र पर पड़े तो चंद्र किरण धूमिल हो जाती है, इसे ही ग्रहण कहते हैं। चंद्र ग्रहण केवल पूर्णमासी पर ही लगता है और सूर्य ग्रहण अमावस पर ही दिखेगा। पौराणिक काल से राहु और केतु को समुद्र मंथन से जोड़ा गया है और ज्योतिश इन्हें छाया ग्रह मानता है।

क्या नवरात्रि में विवाह कर सकते हैं?

क्या नवरात्रि में विवाह कर सकते हैं?

चंडीगढ़ (मदन गुप्ता सपाटू) - सामान्यतः जन साधारण में यह प्रबल धारणा है कि नवरात्रि के दौरान, कोई भी शुभ अथवा मांगलिक कार्य बिना मुहूर्त जाने भी किया जा सकता है। इस धारणा का अनुमोदन काफी धर्म एवं ज्योतिष मर्मज्ञ भी करते हैं। इसी धारणा के अनुसार कई परिवार, विवाह का आयोजन भी इसी अवधि में रख लेते है। उनका विश्वास यही रहता है कि मां का नाम लेकर विवाह कर दो सब ठीक होगा। हालांकि इस विश्वास में कोई दो राय नहीं हो सकती फिर भी एक अन्य मतानुसार नवरात्रि के दौरान विवाह करना उचित नहीं है।

क्या कहता है भारत का भविष्य विक्रमी संवत 2072 में ?

क्या कहता है भारत का भविष्य विक्रमी संवत 2072 में ?

क्या करें, कैसे मनाएं श्रीमहाशिवरात्रि - मदन गुप्ता सपाटू

क्या करें, कैसे मनाएं श्रीमहाशिवरात्रि - मदन गुप्ता सपाटू

लोहड़ी एवं मकर सक्रांति का त्योहार

लोहड़ी एवं मकर सक्रांति का त्योहार

क्या है नवरात्रों का वैज्ञानिक आधार  - मदन गुप्ता सपाटू

क्या है नवरात्रों का वैज्ञानिक आधार - मदन गुप्ता सपाटू

सन्त निरंकारी मिशन द्वारा मुक्ति पर्व का आयोजन

सन्त निरंकारी मिशन द्वारा मुक्ति पर्व का आयोजन

जालौर स्थित श्री विष्णु दशावतार मंदिर श्रद्धालुओं के लिए एक नया श्रद्धा स्थल बना

जालौर स्थित श्री विष्णु दशावतार मंदिर श्रद्धालुओं के लिए एक नया श्रद्धा स्थल बना

इन्सान अपने मूल अस्तित्व को ही भूल बैठा है - निरंकारी बाबा

इन्सान अपने मूल अस्तित्व को ही भूल बैठा है - निरंकारी बाबा

ऋषिकेश में गंगा तट पर लगा योग का मेला

ऋषिकेश में गंगा तट पर लगा योग का मेला

संयुक्त पारिवारिक व्यवस्था को देख पितृ देवता होते है प्रसन्न: परम् पूज्य श्री सुरेश शास्त्री जी

संयुक्त पारिवारिक व्यवस्था को देख पितृ देवता होते है प्रसन्न: परम् पूज्य श्री सुरेश शास्त्री जी

सब-कुछ अणु-परमाणुओं से बना है -  श्री श्री रविशंकर

सब-कुछ अणु-परमाणुओं से बना है - श्री श्री रविशंकर

विक्रम संवत के नववर्ष की शुरुआत 11 अप्रैल से

विक्रम संवत के नववर्ष की शुरुआत 11 अप्रैल से

शिवरात्रि : परमात्मा शिव के दिव्य अवतरण और दिव्य कर्म का यादगार पर्व

शिवरात्रि : परमात्मा शिव के दिव्य अवतरण और दिव्य कर्म का यादगार पर्व

परमात्मा की कृपा पाने के लिए बुद्धि रूपी बर्तन शुद्ध होना चाहिए : रमेश बहन

परमात्मा की कृपा पाने के लिए बुद्धि रूपी बर्तन शुद्ध होना चाहिए : रमेश बहन

 हर सुबह इस मंत्र से करें महाकाल का ध्यान, मुसीबतें नहीं आएंगी सामने

हर सुबह इस मंत्र से करें महाकाल का ध्यान, मुसीबतें नहीं आएंगी सामने

गुरु नानक देव की वाणी - जिंदगी झूठ, मौत सच!

गुरु नानक देव की वाणी - जिंदगी झूठ, मौत सच!

X