Hindi English Thursday, 30 May 2024
BREAKING
मै सांसद बनू या ना बनू परन्तु चंडीगढ़ वासियों के हर सुख दुःख में साथ खड़ा रहूंगा, यह एक साधु का वचन है: महन्त रवि कान्त मुनि उदासी       राज कॉमिक्स “द अलायंस: प्रोजेक्ट मेटामोरफ़ोसिस" के साथ प्रतिष्ठित सुपरहीरो “सुपर कमांडो ध्रुव" और “डोगा" को जीवंत कर रहा है। मतगणना के लिए किए जा रहे आवश्यक प्रबंध - डा. यश गर्ग अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के लिए दूसरे दिन 105 पीटीआई व डीपीई को दिया प्रशिक्षण अग्निवीर भर्ती के काॅमन प्रवेश परीक्षा का परिणाम घोषित पवित्र चार धाम यात्रा पर आने वाले तीर्थयात्रियों के स्वास्थ्य की देखभाल लिए बनाया ई-स्वास्थ्य धाम ऐप फूली के ट्रेलर ने इंडस्ट्री में तहलका मचा दिया: अविनाश ध्यानी की बहुप्रतीक्षित फिल्म सिनेमाघरों में होगी रिलीज 10वें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के लिए 100 पीटीआई व डीपीआई को दिया योग प्रशिक्षण मतगणना के लिए सभी आवश्यक प्रबंध पूरे - डा. यश गर्ग मासिक धर्म स्वच्छता दिवस पर स्वास्थ्य केन्द्रों में हुए कार्यक्रम

धर्म – संस्कृति

More News

ब्रह्म ज्ञान की प्राप्ति से ही अंतर्मन का सुकून मिलता है

Updated on Saturday, March 09, 2024 11:32 AM IST

चंडीगढ़- ब्रह्मज्ञान की प्राप्ति से ही अंतर्मन का सुकून मिलता है। यह ब्रह्मज्ञान सतगुरु की शरण में आकर मिलता है यह विचार मलोया (चंडीगढ़) के ग्राउंड में हुए विशाल निरंकारी संत समागम में संत निरंकारी मंडल के सचिव जोगिंदर सुखीजा ने हजारों की संख्या में उपस्थित साथ संगत को संबोधन करते हुए कहे।

उन्होंने सत्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज के संदेश “मनुष्य जन्म अनमोल है तथा इस मनुष्य जीवन में रहते हुए ही ब्रहम की प्राप्ति की जा सकती है” के संदर्भ में आगे कहा कि ब्रह्मज्ञान ही सदैव रहने वाला है तथा यही सत्य है। बाकी जो कुछ भी है वो स्वप्न्न है, नाशवान है केवल एक हरि ही सत्य है।

उन्होंने आगे कहा कि जो इस तन, मन व धन को निरंकार प्रभु की देन मानते है, उन्हीं का जीवन सुकून से भरा होता है। फिर प्रत्येक परिस्थिति में एक सी ही स्थिति बनी रहती है।

बाबा हरदेव सिंह जी द्वारा दी उदाहरण से समझाते हुए कहा कि एक मूर्तिकार द्वारा तीन एक जैसी मूर्तियां बनाई गई परंतु कीमत अलग अलग रखी। उनकी विभिन कीमत होने का मूर्तिकार ने कारण बताया कि पहली मूर्ति के कान में तिनका डाला तो वो दूसरे कान से निकल गया, भाव शब्द सुना परन्तु उस पर सुनकर अनसुना कर दिया।

वही दूसरी मूर्ति के कान में डाला तिनका मुंह से निकल जाता है। भाव सुना पर जुबान से दोहरा रहे हैं, उसे जीवन में अपना नही रहे। वही तीसरी मूर्ति का तिनका कान से सीधे अंदर चला गया। भाव जो गुरु की शिक्षाओं को सुनते ही नही बल्कि उन शिक्षाओं को ग्रहण कर अमल में ले आये हैं। इसीलिए उसी व्यक्ति के जीवन की कीमत अधिक है जो ब्रह्मज्ञान प्राप्ति कर सतगुरु के हर वचन को हूबहू अपनाता है।

चंडीगढ़ जोन के जोनल इंचार्ज ओ.पी. निरंकारी जी और चंडीगढ़ ब्रांच के संयोजक, एरिया के मुखी व क्षेत्रीय संचालक ने जोगिंदर सुखीजा सचिव संत निरंकारी मंडल का चंडीगढ़ पहुंचने पर अभिवादन किया। इस अवसर पर जोनल इंचार्ज ने कहा कि सुकून तभी प्राप्त होगा जब आत्मा अपने मूल परमात्मा से ब्रह्मज्ञान द्वारा इकमिक हो जाएगी।

चंडीगढ़ ब्रांच के संयोजक नवनीत पाठक ने चंडीगढ़ प्रशासन और नगर निगम व पार्षद तथा सभी विभागों द्वारा दिये गए सहयोग के लिए आभार व्यक्त किया।

Have something to say? Post your comment
X