Hindi English Thursday, 30 May 2024
BREAKING
मै सांसद बनू या ना बनू परन्तु चंडीगढ़ वासियों के हर सुख दुःख में साथ खड़ा रहूंगा, यह एक साधु का वचन है: महन्त रवि कान्त मुनि उदासी       राज कॉमिक्स “द अलायंस: प्रोजेक्ट मेटामोरफ़ोसिस" के साथ प्रतिष्ठित सुपरहीरो “सुपर कमांडो ध्रुव" और “डोगा" को जीवंत कर रहा है। मतगणना के लिए किए जा रहे आवश्यक प्रबंध - डा. यश गर्ग अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के लिए दूसरे दिन 105 पीटीआई व डीपीई को दिया प्रशिक्षण अग्निवीर भर्ती के काॅमन प्रवेश परीक्षा का परिणाम घोषित पवित्र चार धाम यात्रा पर आने वाले तीर्थयात्रियों के स्वास्थ्य की देखभाल लिए बनाया ई-स्वास्थ्य धाम ऐप फूली के ट्रेलर ने इंडस्ट्री में तहलका मचा दिया: अविनाश ध्यानी की बहुप्रतीक्षित फिल्म सिनेमाघरों में होगी रिलीज 10वें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के लिए 100 पीटीआई व डीपीआई को दिया योग प्रशिक्षण मतगणना के लिए सभी आवश्यक प्रबंध पूरे - डा. यश गर्ग मासिक धर्म स्वच्छता दिवस पर स्वास्थ्य केन्द्रों में हुए कार्यक्रम

हेल्थ

More News

नागालैंड में जरूरतमंद महिलाओं को हजारों सैनिटरी नैपकिन बाटेगा बफी

Updated on Wednesday, September 29, 2021 17:57 PM IST

बफी एक ऐसा फेमिनिन हाइजीन पैड है जो हर उम्र की महिलाओं के लिए बहुत ही कंफर्टेबल है और साथ ही उन्हें पूरा दिन फ्रेश भी रखता है। बफी सैनिटरी पैड का मुख्य उद्देश्य यही है कि पीरियड्स के दौरान महिलाओं को कंफर्टेबल महसूस करा सकें। 

सुमिता प्रिया बफी सैनिटरी नैपकिन की फाउंडर हैं, और वो चाहती है कि आने वाले समय में महिलाएं पीरियड्स के दौरान खुद को कांफिडेंट और कंफर्टेबल महसूस करें। इसलिए उन्होंने बफी सैनिटरी पैड को इस तरह से डिजाइन किया है ताकि सभी महिलाएं बिना किसी टेंशन और चिंता के इसका इस्तेमाल कर सकें। जैसा कि इसका ब्रांड भी यही कहता है कि बफी का इस्तेमाल "हैप्पीनेस इन फ्रेशनेश" के साथ किया जा सकता है।

सुमिता प्रिया द्वारा बनाएं गए इस बफी सैनिटरी नैपकिन के कॉस्ट की बात करें तो इसका कॉस्ट अन्य सैनिटरी नैपकिन की तुलना में कम है ताकि महिलाएं इसे आसानी से खरीद पाएं। 

सैनिटरी नैपकिन को, महिलाओं को बाटने के बारे में बताते हुए सुमिता ने कहा, "महिलाओं को बफी सैनिटरी नैपकिन बॉटने की वजह यही है कि जो औरतें अभी भी सैनिटरी नैपकिन नहीं खरीदती और इसका इस्तेमाल नहीं करती, वो सब अब पीरियड्स के समय इसका इस्तेमाल करें ना कि कपड़े का। जैसा कि हम जानते हैं कि पीरियड्स के दौरान कपड़े का इस्तेमाल करना सही नहीं है, इससे कई बिमारियाँ हो सकती है।"

इसी के साथ सुमिता प्रिया ने सभी से बफी सैनिटरी नैपकिन का इस्तेमाल करने और उसका फीडबैक शेयर करने का अनुरोध किया। 

सुमिता नागालैंड में अपने सैनिटरी नैपकिन बफी को इंट्रोड्यूज करने के लिए काफी एक्साइटेड है उन्होंने कहा, "बफी को हम जल्द ही नागालैंड में इंट्रोड्यूज करने वाले है और मुझे यकीन है कि आप लोगों ये पसंद आएगा। मैं आपको भरोसा दिला सकती हूं कि इसकी क्वालिटी बहुत अच्छी है और साथ ही यह सस्ता भी है। बफी सैनिटरी नैपकिन के अलग-अलग आकार, पैकेट और कॉस्ट हैं। हमारी पहली प्राथमिकता है "ट्रस्ट द क्वालिटी"। 

वेबसाइट: www.Buffy.co.in

नागालैंड के दीमापुर और उसके आसपास के इलाकों में कम्यूनिटी वर्कर जुतिका महंत और सुमिता, जरूरतमंदों को हजारों बफी नैपकिन बांटेगी।

जुतिका महंत ने बफी सैनिटरी नैपकिन को नागालैंड लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है उन्होंने कहा, "बफी यहां की सभी महिलाओं के लिए न केवल इसकी क्वालिटी के लिए बल्कि इसकी कॉस्ट के लिए भी सबसे अच्छा ऑप्शन है। मैंने खुद इसका इस्तेमाल किया है और मैं सबको इसे सजेस्ट करूंगी।"

जुतिका ने आगे कहा, "एक सच्ची नॉर्थ ईस्टर्न होने के नाते  मैं सोसाइटी के लिए अपना सही योगदान देना चाहती हूं और नागालैंड में महिलाओं को सैनिटरी नैपकिन देने से बेहतर क्या हो सकता है। सैनिटरी नैपकिन यहाँ कि हर महिला को सुरक्षित, स्वस्थ और खुश रहने में मदद कर सकता है। आइए सुरक्षित रहें, फ्रेश रहें और अपने जीवन का आनंद लें।"

बता दें, बफी द्वारा सैनिटरी पैड बांटने के लिए दीमापुर में चार महिला आश्रय स्थलों को सेलेक्ट किया गया है। 

 

Have something to say? Post your comment
X