Hindi English Sunday, 21 July 2024
BREAKING
युवाओं ने बस सर्विस की मांग को लेकर परिवहन विभाग के निदेशक को सौंपा ज्ञापन आमिर का जीवन पूरे विश्व के लिए प्रेरणा हैः बंडारू दत्तात्रेय पंजाब की 100 महिलाओं को कॉरपोरेट संगठनों की लीडर बनाने की कवायद - पंजाब 100 सेक्टर 42 कम्युनिटी सेंटर में फ्री मेडिकल चेकअप कैंप आयोजित चंडीगढ़ वन विभाग और टीम सॉल्यूशंस ने रन फ़ॉर फारेस्ट का किया आयोजन देश की अदालतों में महिलाओं के इंसाफ की लड़ाई लड़ेगी दिशा वूमैन वैलफेयर ट्रस्ट:हरदीप कौर पार्क हॉस्पिटल में पार्किंसनिज़्म उपचार में नवाचार डीबीएस का इस्तेमाल शुरू हंसाली रन 2024 को गुरुद्वारा सिंह शहीदां सोहाना मोहाली से पहले प्रोमो रन को मिली जबरदस्त प्रतिक्रिया बुडो काई डू मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया के खिलाड़ियों ने लगाए पौधे प्राचीन कला केंद्र में युवा संतूर वादक डॉ बिपुल कुमार रॉय ने प्रभावशाली संतूर वादन से खूब समां बांधा

धर्म – संस्कृति

More News

उत्तर भारत में पूरे श्रद्धाभाव से मनेगी न्याय के देवता शनिदेव की जयंती

Updated on Friday, May 31, 2024 20:19 PM IST

- हरियाणा और राजस्थान की सीमा से सटे दिल्ली के असोला धाम में होगा मुख्य आयोजन
- लोकसभा चुनाव के नतीजों के तुरंत बाद पांच व छह जून को रखे गए धार्मिक कार्यक्रम


चंडीगढ़ - हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान, महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश समेत देश के विभिन्न राज्यों में शनि जयंती वृहद स्तर पर मनाने की तैयारियां आरंभ हो गई हैं। लोकसभा चुनाव के नतीजों के तुरंत बाद छह जून को शनि जयंती है। हिंदू पंचांग के अनुसार इस साल ज्येष्ठ माह की अमावस्या तिथि छ जून को पड़ रही है और इस तारीख पर न्याय के देवता शनि देव का जन्म दिवस व्यापक स्तर पर मनाया जाएगा। ज्येष्ठ माह की अमावस्या तिथि की शुरुआत पांच जून की शाम को सात बजकर 54 मिनट से होगी और इसका समापन छह जून को शाम छह बजकर सात मिनट पर होगी। इस कारण शनि जयंती के मुख्य कार्यक्रम छह जून को मनाए जाएंगे, जिनकी शुरूआत पांच जून को हो चुकी होगी।

शनि देव की विशेष कृपा पाने के लिए शनि जयंती सबसे शुभ दिन माना जाता है। उत्तर भारत में दिल्ली के असोला स्थित श्रीसिद्ध शक्तिपीठ शनिधाम में शनि जयंती महोत्सव काफी वृहद स्तर पर मनेगा, जिसकी तैयारियां चल रही हैं। शनि जयंती की पूर्व संध्या पर असोला शक्तिपीठ में विशाल भजन संध्या का आयोजन होगा। श्री शनिधाम पीठाधीश्वर महामंडलेश्वर स्वामी निजस्वरूपानंदपुरी (दाती जी) महाराज के सानिध्य में शनि जयंती महोत्सव के समस्य कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा।

 

शनिदेव चूंकि न्याय के देवता हैं, इसलिए इसी दिन 35वीं सामाजिक समरसता विचार गोष्ठी का भी आयोजन असोला धाम में किया गया है। हरियाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान की सीमा से सटे दिल्ली के असोला में भगवान शनिदेव का सिद्ध शक्तिपीठ है, जहां देश भर से श्रद्धालु आते हैं। पांच जून को होने वाले कार्यक्रम में सैकड़ों साधू-संत भी शामिल होंगे, जबकि भजन संध्या में विख्यात भजन गायक सवाई भट्ट, गजेंद्र राव, खेते खान, हेमराज गोयल और धनराज जोशी भजन प्रस्तुत करेंगे।

श्री शनिधाम असोला के जनसंपर्क अधिकारी अशोक कुमार ने बताया कि पांच जून की रात 12 बजे शनिधाम पीठाधीश्वर दाती जी महाराज द्वारा महाआरती एवं मंचामृत, तेलाभिषेक और हवन किया जाएगा। प्रचंड गर्मी (नौतपा) को देखते हुए मंदिर परिसर में शीतल जल और पंखे-कूलर की व्यवस्था की गई है। यह शनिधाम गायों की सेवा के लिए प्रसिद्ध है, जहां सैकड़ों गायों को गोशाला में रखा गया है। धाम की ओर से राजस्थान में भी गोशालाओं का संचालन हो रहा है। दाती जी महाराज ने कहा कि बहुत ही शुभ मुहूर्त में शनि जयंती महोत्सव का महापर्व होने वाला है। इस दिन जो भक्त शनिदेव की प्रतिमा के दर्शन और तेलाभिषेक करते हैं, उन्हें सभी प्रकार के कष्टों से मुक्ति मिलेगी।


शनिधाम में अष्टधातुओं से बनी भगवान शनिदेव की विशालकाय मूर्ति

दिल्ली के महरौली स्थित असोला (फतेहपुर बेरी) में शनिदेव की सबसे बड़ी मूर्ति विद्यमान है, जो कि अष्टधातुओं से बनी है। देश में इस मूर्ति को सबसे बड़ी होने का दावा किया गया है। इसकी स्थापना 31 मई 2003 को दाती जी महाराज के सानिध्य में जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी माधवाश्रम जी महाराज द्वारा अनावरण कर की गई थी। इस जगह पर भगवान शनिदेव की प्राकृतिक चट्टान की मूर्ति भी है। इस मूर्तिको स्थापित करने से पहले 100 करोड़ 32 लाख बार शनि मंत्रों का जाप किया गया था।

Have something to say? Post your comment
X