Friday, 02 December, 2022
ब्रेकिंग न्यूज़ :
सारागढ़ी जंग की 125वीं वर्षगांठ पर समागम का आयोजनलेखकों को हरियाणा पंजाबी साहित्य अकादमी द्वारा सम्मानित किया गयाकॉइनस्विच द्वारा क्रिप्टो रुपी इंडेक्स (सीआरई8) लॉन्चवेदांतु ने एआई लाईव टेक्नॉलॉजी प्रस्तुत की; लाईव इंटरैक्टिव क्लासेस केवल 5000 रु. साल से शुरूब्लॉकचेन में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का एकीकरण भविष्य में एक बड़ा कदम हैकोरोना वायरस के नए वैरिएंट के बाद इंडो-पोलिश फिल्म नो मीन्स नो की रिलीज़ डेट पोस्टपोन हुईइस धनतेरस, हीरो मोटोकॉर्प रहा उपभोगताओं का चहेता ब्रैंडदेसी ऐप Koo पर ट्रेंड हुआ '#MentalHealthZarooriHai', बॉलीवुड सितारों से लेकर नेताओं तक ने की अपीलभारतीय क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने मारी कू ऐप पर एंट्रीKoo App और मेट्रो हॉस्पिटल्स ने शुरू की है दिल की बीमारियों के लिए जागरुकता फैलाने की मुहिम
चंडीगढ़ न्यूज़

सारागढ़ी जंग की 125वीं वर्षगांठ पर समागम का आयोजन

August 27, 2022 11:36 AM

हरियाणा पंजाबी साहित्य अकादमी ने अकादमी भवन, पंचकूला में सारागढ़ी युद्ध की 125वीं वर्षगांठ को समर्पित एक साहित्यिक संगोष्ठी का आयोजन किया। इस संगोष्ठी की जानकारी देते हुए अकादमी के उपाध्यक्ष डॉ. गुरविंदर सिंह धमीजा ने कहा कि यह कार्यक्रम सारागढ़ी में शहीद हुए सिख शहीदों के महान बलिदान को याद किया गया। इस संगोष्ठी में राज मेहता (लेखक और सेवानिवृत्त मेजर जनरल, भारतीय सेना), इतिहासकार सिमर सिंह, स. तरलोचन सिंह (इतिहासकार और पूर्व सांसद), स. बलदेव सिंह चहल (सेवानिवृत्त कर्नल और सेना विशेषज्ञ) ने अपने विचार प्रस्तुत कि तथा अवि संधू (पंजाबी साहित्यकार) द्वारा मंच संचालन किया गया।

इस मौके पर इतिहासकार और सारागढ़ी फाउंडेशन के अध्यक्ष डॉ. गुरिंदरपाल सिंह जोशान ने सारागढ़ी में शहीदों के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि 36 सिक्ख रेजिमेंट के 21 जवानों ने सारागढ़ी के महत्वपूर्ण किले की रक्षा के लिए 10 हजार पठानों के साथ युद्ध में अंतिम सांस तक लड़ते हुए अपनी शहादत दी। यह लड़ाई करीब 6 घंटे तक चलती रही और एक-एक कर सैनिक शहीद होते गए लेकिन उन्होंने पठानों को मोर्चे पर कब्जा नहीं करने दिया। अंत में उनके नेता हवलदार ईशर सिंह भी किले के द्वार के सामने दुश्मनों का रास्ता रोकते हुए शहीद हो गए। इतने बड़े बलिदान की उदाहरण इतिहास में और कहीं नहीं मिलती।

संगोष्ठी में साहित्यकार भारत भूषण के 'दशवंध' और प्रो. बृजभूषण शर्मा की पुस्तक का विमोचन किया गया।

इस आयोजन में डॉ. गुरिंदरपाल सिंह जोसन (इतिहासकार और अध्यक्ष सारागढ़ी फाउंडेशन) विशेष अतिथि के रूप में और स. जतिंदर सिंह अरोड़ा (सेवानिवृत्त: ब्रिगेडियर, भारतीय सेना और अध्यक्ष सारागढ़ी फाउंडेशन) विशेष अतिथि के रूप में शामिल हुए। रमनीत कौर बावा प्रसिद्ध समाज सेवका ने भी इस कार्यक्रम में भाग लिया।

Have something to say? Post your comment
 
और चंडीगढ़ न्यूज़
 
 
ताजा न्यूज़
सारागढ़ी जंग की 125वीं वर्षगांठ पर समागम का आयोजन लेखकों को हरियाणा पंजाबी साहित्य अकादमी द्वारा सम्मानित किया गया कॉइनस्विच द्वारा क्रिप्टो रुपी इंडेक्स (सीआरई8) लॉन्च वेदांतु ने एआई लाईव टेक्नॉलॉजी प्रस्तुत की; लाईव इंटरैक्टिव क्लासेस केवल 5000 रु. साल से शुरू बॉलीवुड दिवा मिनिषा लांबा ने लॉन्च की इटोइल्स टुडे पत्रिका अब China make पर पड़ेगा मेक इन इंडिया भारी, आई VARNI की बारी - एंटरप्रेन्योर किशन माली भारत का नया रियलिटी शो ‘अब हसेगा इंडिया’ जल्द ही टीवी स्क्रीन पर दस्तक देगा हमारा ब्रांड गोल्ड फ्रोजन फूड्स फिल्म 83 की टीम के साथ जुड़कर गर्वित महसूस कर रहा है- अर्चित इंटरप्रेन्योर अमित बी वाधवानी ने शानदार अंदाज में मनाया अपना जन्मदिन ब्लॉकचेन में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का एकीकरण भविष्य में एक बड़ा कदम है ज्योतिका टांगरी का नया गाना हौली हौली स्टारिंग जरीन खान और बिग बॉस फेम प्रिंस नरुला हुआ रिलीज कोरोना वायरस के नए वैरिएंट के बाद इंडो-पोलिश फिल्म नो मीन्स नो की रिलीज़ डेट पोस्टपोन हुई
Copyright © 2016 AbhitakNews.com, A Venture of Lakshya Enterprises. All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech