Thursday, 06 October, 2022
ब्रेकिंग न्यूज़ :
सारागढ़ी जंग की 125वीं वर्षगांठ पर समागम का आयोजनलेखकों को हरियाणा पंजाबी साहित्य अकादमी द्वारा सम्मानित किया गयाकॉइनस्विच द्वारा क्रिप्टो रुपी इंडेक्स (सीआरई8) लॉन्चवेदांतु ने एआई लाईव टेक्नॉलॉजी प्रस्तुत की; लाईव इंटरैक्टिव क्लासेस केवल 5000 रु. साल से शुरूब्लॉकचेन में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का एकीकरण भविष्य में एक बड़ा कदम हैकोरोना वायरस के नए वैरिएंट के बाद इंडो-पोलिश फिल्म नो मीन्स नो की रिलीज़ डेट पोस्टपोन हुईइस धनतेरस, हीरो मोटोकॉर्प रहा उपभोगताओं का चहेता ब्रैंडदेसी ऐप Koo पर ट्रेंड हुआ '#MentalHealthZarooriHai', बॉलीवुड सितारों से लेकर नेताओं तक ने की अपीलभारतीय क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने मारी कू ऐप पर एंट्रीKoo App और मेट्रो हॉस्पिटल्स ने शुरू की है दिल की बीमारियों के लिए जागरुकता फैलाने की मुहिम
बिजनेस न्यूज़

News Helpline का SaaS प्लेटफार्म दिलायेगा ऑफलाइन लोकल न्यूज़ पब्लिशर्स और रिपोर्टर्स को उनकी अपनी ऑनलाइन पहचान - संजय तिवारी

March 27, 2021 03:41 PM

सदियों से हम सुनते आ रहे है की कंटेंट ही किंग है और आज के दौर में देखा जाए तो न्यूज़ कंटेंट ही असली किंग है। लेकिन दुर्भाग्य से न्यूज़ अब भी प्रीमियम कंटेंट की तरह ज़्यादातर टियर १ शहरों से प्राप्त होता है, जबकि असल भारत टियर २ और टियर ३ शहरों में रहता है, जहाँ पर प्रोपर वेबसाइट ना होने के कारण इन शहरों की न्यूज़ पूरे देश तक तो क्या उनके अपने शहरवासिओं तक भी नहीं पहुंच पाती। 

ऐसे में गुड न्यूज़ यह है की न्यूज़ हेल्पलाइन, जो की मीडिया इंडस्ट्री में एक विश्वसनीय नाम है, छोटे शहरों के ऑफलाइन लोकल न्यूज़ पब्लिशर्स और रिपोर्टर्स को ऑनलाइन लाने का काम कर रही है। न्यूज़ हेल्पलाइन इन सभी को ऑनलाइन प्रेसेंस  यानि की डिजिटल पहचान देगी उनकी अपनी वेब साइट्स के माध्यम से। 

संजय तिवारी, न्यूज़ हेल्पलाइन के फाउंडर ने अपने स्टेटमेंट में बताया, "आज के नए डिजिटल इंडिया में ऑफलाइन न्यूज़ पब्लिशर्स  धीरे धीरे ख़त्म होते जा रहे है। 2015 में मोदी जी ने डिजिटल इंडिया कैंपेन शुरू किया था और 2016 में जिओ ने देश भर में  इंटरनेट को सबके पास एक्सेसिबल करवा कर पुरा सिनेरिओ ही बदल था। RNI (रजिस्ट्रार ऑफ़ न्यूज़ पेपर्स इन इंडिया) के हिसाब से भारत में 118000 रजिस्टर्ड पब्लिशर्स है जिसमे से 18000 न्यूज़ पेपर्स और मैगजीन्स है। लेकिन एक सर्वे करने के बाद हमने जाना कि डिजिटल इंडिया कैंपेन और जिओ टेक्नोलॉजी के बावजूद यहाँ सिर्फ 2% से 3 % न्यूज़ पेपर्स और मैगजीन्स के पास ही ऑनलाइन प्रजेंस है और बाकी 97 % से 98 % न्यूज़ पेपर्स और मैगजीन्स आज भी ऑफलाइन ही काम कर रहे है। ये न्यूज़ पेपर्स और मैगजीन्स बहुत मुश्किल से सर्वाइव कर पा रहे है और धीरे धीरे बंद हो रहे है।"

ऑफलाइन पब्लिशर्स की मुश्किलों के बारे में और बात करते हुए संजय ने बताया, "एक मजबूत लोकल नेटवर्क होने के बावजूद भी लोकल न्यूज़ पब्लिकेशन्स बंद हो रही है। ऐसा हाई प्रिंटिंग कॉस्ट, रीडर्स का डिजिटल होना ,टेक्निकल नॉलेज के अभाव, पुख्ता रेवेनुए मॉडल की कमी और न्यूज़ एजेंसी के हाई सब्सक्रिप्शन रेट्स के कारण हो रहा है।"

ऐसे में न्यूज़ हेल्पलाइन क्यों और किस तरह से ऑफलाइन पब्लिशर्स की मदद कर पाएगी? संजय ने बताया कि  "न्यूज़ हेल्पलाइन देश भर में लोकल रिपोर्टर्स और ऑफलाइन न्यूज़ पब्लिशर्स को उनकी अपनी एक वेबसाइट, बना कर देगी जिसके फीचर्स बेहतरीन होने के साथ साथ गूगल एनालिटिक्स फ्रेंडली भी होंगे। इसके अलावा न्यूज़ हेल्पलाइन टेक्निकल सपोर्ट के साथ साथ कंटेंट और रेवेन्यू में भी मदद करेगी। लोकल न्यूज़ का एक इकोसिस्टम खड़ा करना बहोत ही ज़रूरी है क्यों की लोकल न्यूज़ कम्युनिटीज को और पास ले आता है. लोकल न्यूज़ अपडेट्स आप को अपना दिन प्लान करने में भी अहम् रोल अदा  करते है. संक्षिप्त में कहें तो लोकल न्यूज़ आप को अपनी मिटटी से, अपने शहर से जोड़े रखता है।" 


मीडिया, ब्रांड्स और एडवरटाइजर के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए संजय ने कहा, "इतने सालो के एक्सपीरियंस और नॉलेज से हमने ये जाना की मीडिया और एडवरटाइजिंग इंडस्ट्री के डिमांड और सप्लाई के बीच एक बड़ा गैप है। एडवरटाइजर, ऑनलाइन पब्लिशर्स के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचना चाह रहे है लेकिन उनकी यह डिमांड पूरी नहीं हो पा रही है क्यूंकि अधिकतर पब्लिशर्स टियर 1 सिटीज में ही है। टियर 2 और टियर 3 सिटीज में पब्लिशर्स की मात्रा बहुत कम है और जो भी थोड़े बहुत है वो एडवरटाइजर के साथ डायरेक्टली जुड़ नहीं पाते जिसकी वजह से एडवरटाइजर का लोकल लेवल पर काफी नुक्सान होता है। न्यूज़ हेल्पलाइन इसी गैप को जोड़ने का काम करेगी। हम टियर 2 और टियर 3 सिटीज के पब्लिशर्स को नेशनल और ग्लोबल ब्रांड के साथ जोड़ने का काम करेंगे। "

एक ट्रस्टेड न्यूज़ एजेंसी के साथ साथ न्यूज़ हेल्पलाइन अब एक SaaS कंपनी भी है जो एक ऐसा बिज़नेस मॉडल खड़ा कर रही है जिस के माध्यम से एडवरटाइजर और लोकल न्यूज़ पब्लिशर मिलकर अपने बिज़नेस को आगे बढ़ाएंगे। यह कदम प्रधान मंत्री के 'वोकल फॉर लोकल' इनिशिएटिव से मेल खाता है। 

और जानकारी के लिए उनकी वेबसाइट www.newshelpline.com  पर क्लिक करे और 'आत्मनिर्भरता' की ओर अपने कदम बढ़ाये।

 

Have something to say? Post your comment
 
और बिजनेस न्यूज़
 
 
ताजा न्यूज़
सारागढ़ी जंग की 125वीं वर्षगांठ पर समागम का आयोजन लेखकों को हरियाणा पंजाबी साहित्य अकादमी द्वारा सम्मानित किया गया कॉइनस्विच द्वारा क्रिप्टो रुपी इंडेक्स (सीआरई8) लॉन्च वेदांतु ने एआई लाईव टेक्नॉलॉजी प्रस्तुत की; लाईव इंटरैक्टिव क्लासेस केवल 5000 रु. साल से शुरू बॉलीवुड दिवा मिनिषा लांबा ने लॉन्च की इटोइल्स टुडे पत्रिका अब China make पर पड़ेगा मेक इन इंडिया भारी, आई VARNI की बारी - एंटरप्रेन्योर किशन माली भारत का नया रियलिटी शो ‘अब हसेगा इंडिया’ जल्द ही टीवी स्क्रीन पर दस्तक देगा हमारा ब्रांड गोल्ड फ्रोजन फूड्स फिल्म 83 की टीम के साथ जुड़कर गर्वित महसूस कर रहा है- अर्चित इंटरप्रेन्योर अमित बी वाधवानी ने शानदार अंदाज में मनाया अपना जन्मदिन ब्लॉकचेन में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का एकीकरण भविष्य में एक बड़ा कदम है ज्योतिका टांगरी का नया गाना हौली हौली स्टारिंग जरीन खान और बिग बॉस फेम प्रिंस नरुला हुआ रिलीज कोरोना वायरस के नए वैरिएंट के बाद इंडो-पोलिश फिल्म नो मीन्स नो की रिलीज़ डेट पोस्टपोन हुई
Copyright © 2016 AbhitakNews.com, A Venture of Lakshya Enterprises. All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech