Monday, 30 November, 2020
ब्रेकिंग न्यूज़ :
भारत में ऑनलाइन कैसीनो कितना कारगर ?मान्यता है दिवाली पर तीन पत्ती खेलना होता है शुभकैलाश खेर ने बुलंदशहर के लोगों से की वोट डालने की अपीलयामी गौतम और विक्रांत मैसी का सॉन्ग "फूंक फूंक" मचा रहा धमाल, म्यूजिक कंपोजर गौरव चटर्जी की हो रही प्रशंसासैमसंग इंडिया ने लॉन्च किया सैमसंग ई.डी.जी.ई. कैम्पस प्रोग्राम का पांचवां संस्करणड्रीम11 आईपीएल 2020 से पहले सोनू सूद एवं डिज़्नी+ हॉटस्टार वीआईपी मिलकर क्रिकेट का जोश बढ़ाएंगे।पर्यावरण संकट का समाधान भारतीय संस्कृति में व्याप्त प्रकृति के सम्मान की भावना से ही संभव : डॉ. चौहानबेअदबी मामला: डेरा के वकीलों ने सरकार व पुलिस पर उठाए सवालचीन-भारत संबंधों को तर्कसंगत बनाए रखना चाहिए, भावनाओं को नियंत्रित रखना भी बहुत महत्वपूर्ण हैडॉ. दीपक ज्योति ने पंजाब राज्य बाल अधिकार सुरक्षा आयोग के मैंबर के तौर पर पद संभाला
हरियाणा न्यूज़

पर्यावरण संकट का समाधान भारतीय संस्कृति में व्याप्त प्रकृति के सम्मान की भावना से ही संभव : डॉ. चौहान

August 06, 2020 04:31 PM

असंध - हरियाणा ग्रंथ अकादमी के उपाध्यक्ष डॉ. वीरेंद्र सिंह चौहान ने कहा कि प्रकृति और पर्यावरण के संरक्षण के प्रति हमारे पूर्वज वैदिक काल से ही सजग थे। दुनिया के सामने मौजूद पर्यावरण संकट का सामना प्राचीन भारतीय सांस्कृतिक मूल्यों की तरफ़ लौट कर ही किया जा सकता है। वे आज यहाँ भारत विकास परिषद की असंध इकाई द्वारा आयोजित पौधारोपण कार्यक्रम में बतौर मुख्यातिथि परिषद के सदस्यों को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता भारत विकास परिषद असंध के प्रधान सुरेश जलमाना और पौधारोपण अभियान के संयोजक डॉ. प्रवीण ने की।

डॉ. विरेंद्र सिंह चौहान ने कहा कि भारतीय समाज में वैदिक काल से ही पृथ्वी को माता मानने की परंपरा रही है और हमारे ऋषि मनीषियों ने वेदों में तो इन वृक्ष-वनस्पतियों को स्थान-स्थान पर नमस्कार किया गया है। नमो वृक्षेभ्यः हरिकेशेभ्यः, वनानां पतये नमः, ओषधीनां पतये नमः, वृक्षाणां पतये नमः आदि मंत्र इनके प्रमाण है। उन्होंने श्रीराम जन्मभूमि के भूमिपूजन के पावन अवसर पर पौधारोपण को एक अनूठी पहल बताया और कहा कि पौधारोपण को जन अभियान बनाने में भारत विकास परिषद सरीखे सामाजिक संगठन राज्य सरकार की बहुत मदद कर सकते हैं।

भारत विकास परिषद असंध इकाई के अध्यक्ष सुरेश गुप्ता जी ने पौधों को मानव जीवन का अभिना अंग बताया और कहा कि पौधों के महत्व को नकारने का ही परिणाम है कि प्रदूषण ने मानव जीवन को त्रस्त कर रखा है। 

भारत विकास परिषद असंध इकाई के उपाध्यक्ष अधिवक्ता नरेन्द्र शर्मा ने कहा की अच्छे स्वास्थ्य व मजबूत रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए वृक्षों का आसपास होना सदैव लाभदायक है । पौधों से, वृक्षों से प्राप्त स्वच्छ वायु स्वस्थ्य शरीर के लिए अत्यंत आवश्यक है ।

भारत विकास परिषद असंध इकाई के सचिव लाभ सिंह राणा ने कहा कि कुछ भी भूल जाओ लेकिन नए पौधे लगाना और पौंधों को संरक्षित करना कभी मत भूलो। पौधों को भूलना मानव जीवन को भूलना है ।

भारत विकास परिषद असंध इकाई  के कार्यक्रम संयोजक डॉ. प्रवीण ने पौधारोपण को अत्यंत पुण्य का काम बताते हुए कहा कि प्रत्येक व्यक्ति को पौधा जरूर लगाना चाहिए और वृक्ष बनने तक उसकी देख-रेख करनी चाहिए  ।

Have something to say? Post your comment
और हरियाणा न्यूज़
ताजा न्यूज़
भारत में ऑनलाइन कैसीनो कितना कारगर ? जियोपैथिक स्ट्रेस मनुष्यों, जीव-जंतुओं और वनस्पतियों के लिए अत्यंत हानिकारक मान्यता है दिवाली पर तीन पत्ती खेलना होता है शुभ कैलाश खेर ने बुलंदशहर के लोगों से की वोट डालने की अपील यामी गौतम और विक्रांत मैसी का सॉन्ग "फूंक फूंक" मचा रहा धमाल, म्यूजिक कंपोजर गौरव चटर्जी की हो रही प्रशंसा सैमसंग इंडिया ने लॉन्च किया सैमसंग ई.डी.जी.ई. कैम्पस प्रोग्राम का पांचवां संस्करण ड्रीम11 आईपीएल 2020 से पहले सोनू सूद एवं डिज़्नी+ हॉटस्टार वीआईपी मिलकर क्रिकेट का जोश बढ़ाएंगे। ‘तेरे नशे में चूर’ गाने में लोगों को पसंद आ रहा है गजेंद्र वर्मा का नया अवतार पर्यावरण संकट का समाधान भारतीय संस्कृति में व्याप्त प्रकृति के सम्मान की भावना से ही संभव : डॉ. चौहान ज़ेनोफ़र की सीरीज ‘स्पेक्टर’ को ऑडियंस और क्रिटिक्स से मिल रही है सराहना यूनिक होने के साथ ही इंट्रेस्टिंग भी है फिल्म हेलमेट की कहानी- रोहन शंकर भाई - बहन के रिश्ते को दर्शाती है एमएक्स प्लेयर की सीरीज 'स्वीट एन सोर'
Copyright © 2016 AbhitakNews.com, A Venture of Lakshya Enterprises. All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech