Sunday, 18 April, 2021
इंटरनेश्नल न्यूज़

चीन-भारत संबंधों को तर्कसंगत बनाए रखना चाहिए, भावनाओं को नियंत्रित रखना भी बहुत महत्वपूर्ण है

July 11, 2020 09:06 AM

2020 भारत और चीन के बीच राजनयिक संबंधों की औपचारिक स्थापना की 70 वीं वर्षगांठ का साल है। दोनों देशों ने पिछले साल के अंत में 70 समारोह आयोजित किए। हालांकि, कोविड के प्रकोप से लगता है कि दोनों देशों के बीच बातचीत की दिशा बदल गई है, और इस महामारी के कारण कई समारोहों को टालना पड़ा। इतना ही नहीं, हाल ही में चीन-भारतीय सीमा से बुरी खबर आ गई। हालांकि सीमा संघर्ष कोई नई बात नहीं है, लेकिन दुनिया भर में फैली महामारी एवं अशांत अंतरराष्ट्रीय संबंधों ने दोनों देशों के लिए संकट का प्रबंधन कठिन कर दिया। जैसा कि हम सभी जानते हैं, न केवल भौतिक हित हैं जो दोनों देशों के बीच बातचीत को प्रभावित करते हैं, बल्कि कई गैर-भौतिक कारक भी हैं। इसमें विचारधाराओं, रणनीतिक सोच, मनोवैज्ञानिक माहौल और बातचीत आदि के दौरान विभिन्न भावनाओं में अंतर शामिल हैं। भावनाओं में अंतर कभी-कभी भौतिक हितों से भी अधिक महत्वपूर्ण हो जाता है। वर्तमान में, यह संभावना नहीं है कि सीमा संघर्ष नियंत्रण से बाहर होगा और एक बड़े संकट में विकसित होगा, लेकिन द्विपक्षीय संबंधों के लिए यह समग्र रिश्ते पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। यदि इस भावना को प्रभावी ढंग से नियंत्रित नहीं किया गया, तो इससे वर्तमान सीमा मुद्दों की जटिलता और कठिनाई बढ़ सकती है।

भारत व चीन के बीच लद्दाख क्षेत्र में सीमा टकराव लगभग दो महीने तक रहा है। वर्तमान में, तनाव को कम किया जा रहा है जब दोनों देशों के नेताओं ने कूटनीतिक स्तर पर शांति से इसका सामना किया है। हालांकि, यह संकट महामारी के दौरान हुआ, जिसने संकट प्रबंधन में नए अनिश्चित कारकों को जोड़ा, जिसमें लोगों के बीच कोविड का डर था, साथ ही कई पारंपरिक संचार चैनलों और अन्य बाधाएं भी। नतीजतन, मौजूदा संघर्ष ने सभी पक्षों का ध्यान आकर्षित किया। यद्यपि दोनों देशों के अधिकारियों ने ज्यादा नकारात्मक या निराशावादी भावनाएं नहीं दिखायीं, लेकिन मीडिया में ऐसी भावनाएं फैल गईं, साथ ही साथ दोनों देशों के थिंक टैंक समुदाय में भी। इससे दोनों देशों के बीच बातचीत में "नकारात्मक माहौल" बढ़ा। जाहिर है, वर्तमान संघर्ष को हल करने के लिए यह ठीक नहीं है, और यहां तक कि इससे दोनों पक्षों के बीच गंभीर दुश्मनी पैदा हो सकती है, जिससे गलत निर्णय लिए जा सकते हैं और हालात बिगड़ सकते हैं।

इसलिए, चीन और भारत दोनों को भावनात्मक प्रबंधन के मुद्दे को प्राथमिकता के आधार पर सूचीबद्ध किया जाना चाहिए। जैसा कि हम सभी जानते हैं, डोंगलांग संकट के बाद भारत और चीन के नेताओं ने एक अनौपचारिक बैठक की, और इसने दोनों देशों की नकारात्मक भावनाओं को कम करने में मदद मिली। हालांकि दोनों देशों ने वुहान शिखर सम्मेलन के दौरान किसी भी समझौते पर हस्ताक्षर नहीं किए, न ही कोई संयुक्त बयान जारी किया, हालांकि शिखर बैठक में बाहरी दुनिया के लिए एक सकारात्मक संकेत भेजा गया। फिलहाल तो महामारी के चलते दोनों पक्ष कम समय में बैठक नहीं कर सकते। सौभाग्य से, दोनों देशों ने लेफ्टिनेंट जनरल स्तर पर वार्ता जारी रखी, जो दोनों पक्षों के बीच तनाव कम करने में सहायक रही। फिर भी, किसी भी देश ने इन बैठकों के परिणामों की घोषणा नहीं की। उम्मीद की जाती है कि इस मुद्दे को पूरी तरह से सुलझाना और चीन-भारत संबंधों के मौजूदा नकारात्मक माहौल को उलटना मुश्किल हो सकता है। इस संबंध में, दोनों देशों के लिए यह आवश्यक है कि वे इस दौरान और बाद में भी भावनात्मक प्रबंधन को बेहतर करने के लिए नए चैनल और नए तरीके विकसित करें, जिसमें सूचना प्रसार और संचार के लिए प्रभावी नए चैनल स्थापित करना शामिल है। इसके अलावा, वरिष्ठ नेताओं की "क्लाउड मीटिंग" (ऑनलाइन बैठक) को एक वैकल्पिक व्यवस्था के रूप में लिया जा सकता है।

यह जोर देने योग्य बात है कि भावनात्मक प्रबंधन का उपयोग न केवल संकट प्रबंधन के लिए किया जाना चाहिए, बल्कि इसे दोनों देशों के दीर्घकालिक संबंधों के एजेंडे पर भी रखा जाना चाहिए। नकारात्मक भावनाओं को प्रबंधित करने की आवश्यकता के अलावा, अत्यधिक आशावादी भावनाओं पर भी सतर्क रहने की जरूरत है। क्योंकि अत्यधिक आशावादी भावनाएं "फंतासी मित्रता" का कारण बन सकती हैं, और यदि यह "फंतासी मित्रता" वास्तविकता की कसौटी पर खरी साबित नहीं हुई, तो इससे दोनों पक्षों के बीच एक मनोवैज्ञानिक खाई और असुरक्षा की भावना पैदा हो सकती है, जिससे भरोसे का संकट बढ़ जाता है और यहां तक कि रिश्तों को नुकसान भी पहुंच सकता है।

हाल के वर्षों में, चीन-भारत संबंधों ने उतार-चढ़ाव का अनुभव किया है, जिससे दोनों देशों के रिश्तों की जटिलता और कमजोरी सामने आती है। दोनों देशों के बीच संबंधों को अच्छा बनाये रखने के लिए तर्कसंगत रहना और भावनात्मक सोच को ठीक रखना पहली शर्त है। एक तरफ, दोनों पक्षों के लिए यह पहचानना आवश्यक है कि दोनों देशों के बीच हितों के अंतर वास्तविक हैं, खासकर सीमा मुद्दे पर। चूंकि सीमा मुद्दे में दोनों पक्षों के मूल हित शामिल हैं, इसलिए इसे अल्पावधि में हल करने में विफल होना सामान्य है। और यह निश्चित है कि भले ही इस संकट को हल किया जा सकता है, सीमा क्षेत्र में दोनों पक्षों के बीच टकराव अभी भी रहेगा। इस संबंध में, दोनों देशों को व्यापक संकट प्रबंधन और नियंत्रण तंत्र सुनिश्चित करना चाहिए, ताकि भविष्य के जोखिमों और चुनौतियों से निबटने में आसानी हो सके। दूसरी ओर, दोनों पक्षों को यह भी महसूस करना चाहिए कि दोनों देशों के साझा हित हैं। उदाहरण के लिए, महामारी, जलवायु परिवर्तन, प्राकृतिक आपदाएं और पारिस्थितिक पर्यावरण बिगड़ने जैसी चुनौतियों के कारण, भारत और चीन सहित सभी हितधारकों के पास एक सामान्य नियति है और उन्हें संयुक्त रूप से इस पर प्रतिक्रिया देनी चाहिए।

Have something to say? Post your comment
और इंटरनेश्नल न्यूज़
ताजा न्यूज़
'मीडिया फ़िल्म्सक्रॉफ्ट के म्यूजिक सेक्टर को लेकर काफी बड़े प्लान्स हैं ', नवरोज़ प्रासला 'इश्क भिगाए नैना' गाने के लिए सोनी प्रासला दिखी उत्सुक, निशांत मलकानी आये नजर। कंपोजर आनंद त्रिपाठी और बुलेया सिंगर अमित मिश्रा का आ गया है नया गाना 'तेरा दीवाना' टूटे दिलों की बात करता है चांद साधवानी का नया म्यूजिक वीडियो "तू ही तो था" News Helpline का SaaS प्लेटफार्म दिलायेगा ऑफलाइन लोकल न्यूज़ पब्लिशर्स और रिपोर्टर्स को उनकी अपनी ऑनलाइन पहचान - संजय तिवारी सिंगर अंकित तिवारी को IPML में इमरान हाश्मी के मैशअप के लिए मिला काफी अच्छा रिस्पांस , वीडियो हुई इंटरनेट पर वायरल रेलवे पेसेन्जर्स के लिए भारत मे तेजी से उभर रहा है रेल रेस्तरो फूड ऐप्प इंडिया में कंटेंट की विविधता है- प्रोड्यूसर सोनी प्रासला लॉकडाउन और महामारी जैसी सिचुएशन में भी काफी व्यस्त चल रहीं हैं काव्या किरन बर्थडे पार्टी एंथम में नजर आएं एक्टर अराध्य मान ने अपने अपकमिंग प्रोजेक्ट के बारे में दी जानकारी AARDY.com यूएस के लीडिंग यात्रा बीमा मार्किट में से एक वर्चुअल रियालिटी फिल्म्स के निर्माता-निर्देशक कुणाल शिवदसानी ने दिग्गज सचिन तेंदुलकर के साथ किया लीवप्योर कमर्शियल का शूट
Copyright © 2016 AbhitakNews.com, A Venture of Lakshya Enterprises. All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech