Saturday, 15 August, 2020
ब्रेकिंग न्यूज़ :
पर्यावरण संकट का समाधान भारतीय संस्कृति में व्याप्त प्रकृति के सम्मान की भावना से ही संभव : डॉ. चौहानबेअदबी मामला: डेरा के वकीलों ने सरकार व पुलिस पर उठाए सवालचीन-भारत संबंधों को तर्कसंगत बनाए रखना चाहिए, भावनाओं को नियंत्रित रखना भी बहुत महत्वपूर्ण हैडॉ. दीपक ज्योति ने पंजाब राज्य बाल अधिकार सुरक्षा आयोग के मैंबर के तौर पर पद संभालासुशांत मर के भी अमर हो गया - कुमार सानूमुख्यमंत्री ने पालमपुर तथा कांगड़ा के भाजपा महिला मोर्चा की वर्चुअल रैलियों को संबोधित कियापंजाब सरकार द्वारा राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार के लिए अध्यापकों को ऑनलाइन अप्लाई करने के निर्देशशहीद गुरबिन्दर सिंह को समर्पित गाँव तोलावाल से जखेपल तक बनाई जायेगी नई सडक़ - विजय सिंगलापंजाब की मुख्य सचिव द्वारा डिप्टी कमिश्नरों को राज्य में कोविड की मृत्युदर में कमी लाने की हिदायतमुख्यमंत्री द्वारा यूनिवर्सिटियों, कॉलेजों की अंतिम परीक्षाएं 15 जुलाई तक स्थगित
इंटरनेश्नल न्यूज़

चीन-भारत संबंधों को तर्कसंगत बनाए रखना चाहिए, भावनाओं को नियंत्रित रखना भी बहुत महत्वपूर्ण है

July 11, 2020 09:06 AM

2020 भारत और चीन के बीच राजनयिक संबंधों की औपचारिक स्थापना की 70 वीं वर्षगांठ का साल है। दोनों देशों ने पिछले साल के अंत में 70 समारोह आयोजित किए। हालांकि, कोविड के प्रकोप से लगता है कि दोनों देशों के बीच बातचीत की दिशा बदल गई है, और इस महामारी के कारण कई समारोहों को टालना पड़ा। इतना ही नहीं, हाल ही में चीन-भारतीय सीमा से बुरी खबर आ गई। हालांकि सीमा संघर्ष कोई नई बात नहीं है, लेकिन दुनिया भर में फैली महामारी एवं अशांत अंतरराष्ट्रीय संबंधों ने दोनों देशों के लिए संकट का प्रबंधन कठिन कर दिया। जैसा कि हम सभी जानते हैं, न केवल भौतिक हित हैं जो दोनों देशों के बीच बातचीत को प्रभावित करते हैं, बल्कि कई गैर-भौतिक कारक भी हैं। इसमें विचारधाराओं, रणनीतिक सोच, मनोवैज्ञानिक माहौल और बातचीत आदि के दौरान विभिन्न भावनाओं में अंतर शामिल हैं। भावनाओं में अंतर कभी-कभी भौतिक हितों से भी अधिक महत्वपूर्ण हो जाता है। वर्तमान में, यह संभावना नहीं है कि सीमा संघर्ष नियंत्रण से बाहर होगा और एक बड़े संकट में विकसित होगा, लेकिन द्विपक्षीय संबंधों के लिए यह समग्र रिश्ते पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। यदि इस भावना को प्रभावी ढंग से नियंत्रित नहीं किया गया, तो इससे वर्तमान सीमा मुद्दों की जटिलता और कठिनाई बढ़ सकती है।

भारत व चीन के बीच लद्दाख क्षेत्र में सीमा टकराव लगभग दो महीने तक रहा है। वर्तमान में, तनाव को कम किया जा रहा है जब दोनों देशों के नेताओं ने कूटनीतिक स्तर पर शांति से इसका सामना किया है। हालांकि, यह संकट महामारी के दौरान हुआ, जिसने संकट प्रबंधन में नए अनिश्चित कारकों को जोड़ा, जिसमें लोगों के बीच कोविड का डर था, साथ ही कई पारंपरिक संचार चैनलों और अन्य बाधाएं भी। नतीजतन, मौजूदा संघर्ष ने सभी पक्षों का ध्यान आकर्षित किया। यद्यपि दोनों देशों के अधिकारियों ने ज्यादा नकारात्मक या निराशावादी भावनाएं नहीं दिखायीं, लेकिन मीडिया में ऐसी भावनाएं फैल गईं, साथ ही साथ दोनों देशों के थिंक टैंक समुदाय में भी। इससे दोनों देशों के बीच बातचीत में "नकारात्मक माहौल" बढ़ा। जाहिर है, वर्तमान संघर्ष को हल करने के लिए यह ठीक नहीं है, और यहां तक कि इससे दोनों पक्षों के बीच गंभीर दुश्मनी पैदा हो सकती है, जिससे गलत निर्णय लिए जा सकते हैं और हालात बिगड़ सकते हैं।

इसलिए, चीन और भारत दोनों को भावनात्मक प्रबंधन के मुद्दे को प्राथमिकता के आधार पर सूचीबद्ध किया जाना चाहिए। जैसा कि हम सभी जानते हैं, डोंगलांग संकट के बाद भारत और चीन के नेताओं ने एक अनौपचारिक बैठक की, और इसने दोनों देशों की नकारात्मक भावनाओं को कम करने में मदद मिली। हालांकि दोनों देशों ने वुहान शिखर सम्मेलन के दौरान किसी भी समझौते पर हस्ताक्षर नहीं किए, न ही कोई संयुक्त बयान जारी किया, हालांकि शिखर बैठक में बाहरी दुनिया के लिए एक सकारात्मक संकेत भेजा गया। फिलहाल तो महामारी के चलते दोनों पक्ष कम समय में बैठक नहीं कर सकते। सौभाग्य से, दोनों देशों ने लेफ्टिनेंट जनरल स्तर पर वार्ता जारी रखी, जो दोनों पक्षों के बीच तनाव कम करने में सहायक रही। फिर भी, किसी भी देश ने इन बैठकों के परिणामों की घोषणा नहीं की। उम्मीद की जाती है कि इस मुद्दे को पूरी तरह से सुलझाना और चीन-भारत संबंधों के मौजूदा नकारात्मक माहौल को उलटना मुश्किल हो सकता है। इस संबंध में, दोनों देशों के लिए यह आवश्यक है कि वे इस दौरान और बाद में भी भावनात्मक प्रबंधन को बेहतर करने के लिए नए चैनल और नए तरीके विकसित करें, जिसमें सूचना प्रसार और संचार के लिए प्रभावी नए चैनल स्थापित करना शामिल है। इसके अलावा, वरिष्ठ नेताओं की "क्लाउड मीटिंग" (ऑनलाइन बैठक) को एक वैकल्पिक व्यवस्था के रूप में लिया जा सकता है।

यह जोर देने योग्य बात है कि भावनात्मक प्रबंधन का उपयोग न केवल संकट प्रबंधन के लिए किया जाना चाहिए, बल्कि इसे दोनों देशों के दीर्घकालिक संबंधों के एजेंडे पर भी रखा जाना चाहिए। नकारात्मक भावनाओं को प्रबंधित करने की आवश्यकता के अलावा, अत्यधिक आशावादी भावनाओं पर भी सतर्क रहने की जरूरत है। क्योंकि अत्यधिक आशावादी भावनाएं "फंतासी मित्रता" का कारण बन सकती हैं, और यदि यह "फंतासी मित्रता" वास्तविकता की कसौटी पर खरी साबित नहीं हुई, तो इससे दोनों पक्षों के बीच एक मनोवैज्ञानिक खाई और असुरक्षा की भावना पैदा हो सकती है, जिससे भरोसे का संकट बढ़ जाता है और यहां तक कि रिश्तों को नुकसान भी पहुंच सकता है।

हाल के वर्षों में, चीन-भारत संबंधों ने उतार-चढ़ाव का अनुभव किया है, जिससे दोनों देशों के रिश्तों की जटिलता और कमजोरी सामने आती है। दोनों देशों के बीच संबंधों को अच्छा बनाये रखने के लिए तर्कसंगत रहना और भावनात्मक सोच को ठीक रखना पहली शर्त है। एक तरफ, दोनों पक्षों के लिए यह पहचानना आवश्यक है कि दोनों देशों के बीच हितों के अंतर वास्तविक हैं, खासकर सीमा मुद्दे पर। चूंकि सीमा मुद्दे में दोनों पक्षों के मूल हित शामिल हैं, इसलिए इसे अल्पावधि में हल करने में विफल होना सामान्य है। और यह निश्चित है कि भले ही इस संकट को हल किया जा सकता है, सीमा क्षेत्र में दोनों पक्षों के बीच टकराव अभी भी रहेगा। इस संबंध में, दोनों देशों को व्यापक संकट प्रबंधन और नियंत्रण तंत्र सुनिश्चित करना चाहिए, ताकि भविष्य के जोखिमों और चुनौतियों से निबटने में आसानी हो सके। दूसरी ओर, दोनों पक्षों को यह भी महसूस करना चाहिए कि दोनों देशों के साझा हित हैं। उदाहरण के लिए, महामारी, जलवायु परिवर्तन, प्राकृतिक आपदाएं और पारिस्थितिक पर्यावरण बिगड़ने जैसी चुनौतियों के कारण, भारत और चीन सहित सभी हितधारकों के पास एक सामान्य नियति है और उन्हें संयुक्त रूप से इस पर प्रतिक्रिया देनी चाहिए।

Have something to say? Post your comment
और इंटरनेश्नल न्यूज़
ताजा न्यूज़
पर्यावरण संकट का समाधान भारतीय संस्कृति में व्याप्त प्रकृति के सम्मान की भावना से ही संभव : डॉ. चौहान ज़ेनोफ़र की सीरीज ‘स्पेक्टर’ को ऑडियंस और क्रिटिक्स से मिल रही है सराहना यूनिक होने के साथ ही इंट्रेस्टिंग भी है फिल्म हेलमेट की कहानी- रोहन शंकर भाई - बहन के रिश्ते को दर्शाती है एमएक्स प्लेयर की सीरीज 'स्वीट एन सोर' फैजान अंसारी बॉलीवुड में एंट्री करने के लिए पूरी तरह से तैयार है ज़ेन फिल्म्स प्रोडक्शंस की हॉरर मिस्ट्री 'स्पेक्टर' रिलीज होने के लिए तैयार है बेअदबी मामला: डेरा के वकीलों ने सरकार व पुलिस पर उठाए सवाल अपने नए सॉन्ग जीत जाएंगे हम के साथ धमाल मचा रहे हैं रैपर क्रेजी किंग अपने नए सॉन्ग जीत जाएंगे हम के साथ धमाल मचा रहे हैं रैपर क्रेजी किंग चीन-भारत संबंधों को तर्कसंगत बनाए रखना चाहिए, भावनाओं को नियंत्रित रखना भी बहुत महत्वपूर्ण है क्या पंडित राठौड़ की स्ट्रीट स्मार्ट: ऑटोटेक में एक्टर सुनील शेट्टी हिस्सेदारी ले रहे हैं? एक मल्टी-टास्किंग फैशन टेक्नोलॉजिस्ट है आइशा थराड्रा
Copyright © 2016 AbhitakNews.com, A Venture of Lakshya Enterprises. All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech