Saturday, 15 August, 2020
ब्रेकिंग न्यूज़ :
पर्यावरण संकट का समाधान भारतीय संस्कृति में व्याप्त प्रकृति के सम्मान की भावना से ही संभव : डॉ. चौहानबेअदबी मामला: डेरा के वकीलों ने सरकार व पुलिस पर उठाए सवालचीन-भारत संबंधों को तर्कसंगत बनाए रखना चाहिए, भावनाओं को नियंत्रित रखना भी बहुत महत्वपूर्ण हैडॉ. दीपक ज्योति ने पंजाब राज्य बाल अधिकार सुरक्षा आयोग के मैंबर के तौर पर पद संभालासुशांत मर के भी अमर हो गया - कुमार सानूमुख्यमंत्री ने पालमपुर तथा कांगड़ा के भाजपा महिला मोर्चा की वर्चुअल रैलियों को संबोधित कियापंजाब सरकार द्वारा राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार के लिए अध्यापकों को ऑनलाइन अप्लाई करने के निर्देशशहीद गुरबिन्दर सिंह को समर्पित गाँव तोलावाल से जखेपल तक बनाई जायेगी नई सडक़ - विजय सिंगलापंजाब की मुख्य सचिव द्वारा डिप्टी कमिश्नरों को राज्य में कोविड की मृत्युदर में कमी लाने की हिदायतमुख्यमंत्री द्वारा यूनिवर्सिटियों, कॉलेजों की अंतिम परीक्षाएं 15 जुलाई तक स्थगित
स्पोर्टस न्यूज़

कोविड-19 के बाद कैसे होंगे खेल : भारत के दिग्गज खिलाड़ियों की राय

April 27, 2020 03:07 PM

नयी दिल्ली - क्या दर्शक फिर से स्टेडियमों में लौटेंगे? क्या विदेशों में अभ्यास पहले की तरह आसान होगा? संपर्क वाले खेलों में क्या होगा जिनमें सामाजिक दूरी नहीं बनाये रखी जा सकती है? क्या कोविड-19 महामारी से उबरने के बाद खेल और खेलों को देखना पहले जैसा ही आसान होग?

ऐसे ही कई सवालों पर पीटीआई-भाषा की टीम ने देश के चोटी के खिलाड़ियों से बात की जिस पर उनकी मिश्रित प्रतिक्रिया रही। यहां पर हम इन खिलाड़ियों की प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं।

सचिन तेंदुलकर (भारत के दिग्गज बल्लेबाज) : निसंदेह दुनिया अभी जिंदगी की सबसे बड़ी चुनौती से गुजर रही है। मुझे लगता है कि (गेंद को चमकाने के लिये) लार का उपयोग करने में खिलाड़ी कुछ समय के लिये सतर्क रहेंगे। यह बात उनके दिमाग में रहेगी।

खिलाड़ी कुछ समय के लिये गले मिलने से बचेंगे। मैं ऐसा मानता हूं। वे शुरू में सतर्क रहेंगे और सामाजिक दूरी बनाये रख सकते हैं।

अभिनव बिंद्रा (भारत के पहले ओलंपिक व्यक्तिगत स्वर्ण पदक विजेता): खेल लोगों को आपस में जोड़ता है तथा दुनिया भर के हजारों भागीदारों और दर्शकों में खुशी का संचार करता है। भविष्य में सुरक्षा और बचाव पर अधिक ध्यान दिया जाएगा लेकिन खेलों के प्रति आकर्षण कम नहीं होगा।

कोविड-19 के बाद की स्थिति भारत के लिए फायदेमंद हो सकती है। शायद काफी विदेशी टूर्नामेंट और शिविर नहीं होंगे और ऐसे में भारत को उपयुक्त खेल बुनियादी ढांचा तैयार करने का मौका मिल सकता है।

बजरंग पूनिया (विश्व रजत पदक विजेता पहलवान) : कुश्ती संपर्क वाला खेल है। जब कुश्ती शुरू होगी तो आप किसी भी तरह से शारीरिक संपर्क से नहीं बच सकते। लेकिन मुझे नहीं लगता कि इसको लेकर किसी तरह की झिझक होगी। मुझे किसी तरह के बदलाव की संभावना नहीं लगती।

मुकाबले अधिक कड़े हो जाएंगे। सभी खिलाड़ी लंबी अवधि बाद वापसी करेंगे। उन्हें इतने लंबे विश्राम की आदत नहीं है। वे अपने मजबूत और कमजोर पक्षों का आकलन कर रहे हैं इसलिए टूर्नामेंट शुरू होने पर मुकाबले कड़े होंगे।

एम सी मेरीकोम (छह बार की विश्व चैंपियन, ओलंपिक कांस्य पदक विजेता) : हम सभी चीजों के फिर से पहले की तरह सामान्य होने के लिये प्रार्थनाएं कर रहे हैं लेकिन क्या ऐसा हो सकता है। नहीं। यह वायरस दुश्मन है जिसे पूरी तरह से कोई नहीं समझ पाया। खेलों में बदलाव होंगे। मेरा खेल संपर्क वाला है और मैं निजी तौर पर चिंतित हूं कि हम कैसे इससे पार पाएंगे।

मुझे लगता है कि अभ्यास भी व्यक्तिगत हो जाएगा। जहां तक दर्शकों की बात है तो वे खेल देखने के लिये आएंगे। मुझे इसमें समस्या नजर नहीं आती। लेकिन हां टूर्नामेंटों में स्वच्छता का स्तर काफी ऊपर चला जाएगा। विजेंदर सिंह (ओलंपिक कांस्य पदक विजेता) : मुझे लगता है कि दर्शकों को वापस लाना आसान नहीं होगा क्योंकि लोग अपने स्वास्थ्य को लेकर चिंतित रहेंगे। भारत के बारे में हालांकि कुछ नहीं कहा जा सकता। यहां कुछ भी हो सकता है। लोग लंबे समय से घरों में है और हो सकता है कि वे पहला मौका मिलने पर ही स्टेडियम पहुंच जाएं।

बाईचुंग भूटिया (भारतीय फुटबाल टीम के पूर्व कप्तान) आज के जमाने में जबकि टेलीविजन और डिजीटल प्लेटफार्म हमारी जिंदगी के अहम अंग बन गये हैं तब मुझे लगता है कि स्टेडिमयों में दर्शकों की कमी से खेल व्यवसाय प्रभावित नहीं होगा। मुझे लगता है कि इससे टीवी और डिजीटल प्लेटफार्म को फायदा होगा।

बी साई प्रणीत (विश्व कांस्य पदक विजेता) : हम काफी यात्राएं करते हैं और अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंटों की बहाली के बाद मुझे लगता है कि कोई भी चीन, कोरिया और यहां तक कि यूरोपीय देशों का दौरा करने से घबराएगा। चाहे आप खेल रहे हों या किसी रेस्टोरेंट में खाना खा रहे हों, वायरस के संपर्क में आने डर हमेशा बना रहेगा।

महेश भूपति (कई बार के ग्रैंडस्लैम विजेता) : खेल नहीं बदलेंगे। कोविड-19 के समाप्त होने के बाद सब कुछ पहले की तरह सामान्य हो जाएगा।

जेजे लालपेखलुवा (भारतीय फुटबालर) : चीजें सामान्य होने में थोड़ा समय लगेगा लेकिन एक बार सब कुछ सामान्य होने के बाद हम खेल खेलने से नहीं डरेंगे।

सरदार सिंह (भारतीय हाकी टीम के पूर्व कप्तान) : जहां तक ओलंपिक की तैयारियों का सवाल है तो सकारात्मक बात यह है कि टीमों को अभ्यास का अधिक समय मिलेगा लेकिन इसका नकारात्मक पक्ष यह है कि उन्हें नये सिरे से रणनीति बनानी होगी।

एक बार खेल शुरू होने के बाद सामाजिक दूरी के नये मायने होंगे। यह देखना होगा कि संपर्क वाले खेलों जैसे मुक्केबाजी, कुश्ती में इसे कैसे लागू किया जाता है। हाकी और फुटबाल में भी करीबी संपर्क आम बात है।

Have something to say? Post your comment
और स्पोर्टस न्यूज़
ताजा न्यूज़
पर्यावरण संकट का समाधान भारतीय संस्कृति में व्याप्त प्रकृति के सम्मान की भावना से ही संभव : डॉ. चौहान ज़ेनोफ़र की सीरीज ‘स्पेक्टर’ को ऑडियंस और क्रिटिक्स से मिल रही है सराहना यूनिक होने के साथ ही इंट्रेस्टिंग भी है फिल्म हेलमेट की कहानी- रोहन शंकर भाई - बहन के रिश्ते को दर्शाती है एमएक्स प्लेयर की सीरीज 'स्वीट एन सोर' फैजान अंसारी बॉलीवुड में एंट्री करने के लिए पूरी तरह से तैयार है ज़ेन फिल्म्स प्रोडक्शंस की हॉरर मिस्ट्री 'स्पेक्टर' रिलीज होने के लिए तैयार है बेअदबी मामला: डेरा के वकीलों ने सरकार व पुलिस पर उठाए सवाल अपने नए सॉन्ग जीत जाएंगे हम के साथ धमाल मचा रहे हैं रैपर क्रेजी किंग अपने नए सॉन्ग जीत जाएंगे हम के साथ धमाल मचा रहे हैं रैपर क्रेजी किंग चीन-भारत संबंधों को तर्कसंगत बनाए रखना चाहिए, भावनाओं को नियंत्रित रखना भी बहुत महत्वपूर्ण है क्या पंडित राठौड़ की स्ट्रीट स्मार्ट: ऑटोटेक में एक्टर सुनील शेट्टी हिस्सेदारी ले रहे हैं? एक मल्टी-टास्किंग फैशन टेक्नोलॉजिस्ट है आइशा थराड्रा
Copyright © 2016 AbhitakNews.com, A Venture of Lakshya Enterprises. All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech