Wednesday, 23 September, 2020
ब्रेकिंग न्यूज़ :
सैमसंग इंडिया ने लॉन्च किया सैमसंग ई.डी.जी.ई. कैम्पस प्रोग्राम का पांचवां संस्करणड्रीम11 आईपीएल 2020 से पहले सोनू सूद एवं डिज़्नी+ हॉटस्टार वीआईपी मिलकर क्रिकेट का जोश बढ़ाएंगे।पर्यावरण संकट का समाधान भारतीय संस्कृति में व्याप्त प्रकृति के सम्मान की भावना से ही संभव : डॉ. चौहानबेअदबी मामला: डेरा के वकीलों ने सरकार व पुलिस पर उठाए सवालचीन-भारत संबंधों को तर्कसंगत बनाए रखना चाहिए, भावनाओं को नियंत्रित रखना भी बहुत महत्वपूर्ण हैडॉ. दीपक ज्योति ने पंजाब राज्य बाल अधिकार सुरक्षा आयोग के मैंबर के तौर पर पद संभालासुशांत मर के भी अमर हो गया - कुमार सानूमुख्यमंत्री ने पालमपुर तथा कांगड़ा के भाजपा महिला मोर्चा की वर्चुअल रैलियों को संबोधित कियापंजाब सरकार द्वारा राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार के लिए अध्यापकों को ऑनलाइन अप्लाई करने के निर्देशशहीद गुरबिन्दर सिंह को समर्पित गाँव तोलावाल से जखेपल तक बनाई जायेगी नई सडक़ - विजय सिंगला
चंडीगढ़ न्यूज़

खांसी के साथ खून आए तो हो सकता है लंग कैंसर

February 23, 2020 08:14 AM

चंडीगढ़ - चंडीगढ़ निवासी पूर्व क्रिकेटर अनिल वर्मा अपने बेटे की शादी में आए हुए मेहमानों के साथ व्यस्त थे, तभी अचानक उनको खांसी के साथ खून आने लगा। कुछ ही पलों में उनका पूरा हाथ खून के साथ भर गया। परिजनों ने उन्हें यहां के एक अस्पताल पहुंचाया जहां उनके फेफड़ों का इलाज किया गया। कुछ दिन ठीक रहने के बाद उन्हें दोबारा यह समस्या आई तो किसी परिचित के माध्यम से उन्होंने बैंगलुरू स्थित नारायाणा हेल्थ सिटी में पल्मोनोलोजी इंटेसिव केयर, मेडिकल निदेशक लंग ट्रांसप्लांट डाक्टर बाशा जे खान के साथ संपर्क किया। 

 

सीटीईपीएच के लक्षण

व्यक्ति की छाती में भारीपन होना

सांस लेने में तकलीफ होना

थोड़ी से मेहनत पर थकान होना

व्यायाम करने में दिक्कत आना

 

 

           जिन्होंने प्रारंभिक जांच में बताया कि अनिल वर्मा को क्रोनिक थ्रोम्बोएम्बोलिक पल्मोनरी हाइपरटेंशन (सीटीईपीएच) नामक गंभीर बिमारी है। चंडीगढ़ निवासी अनिल कुमार पूर्व क्रिकेटर रहे हैं और 80 के दशक में रणजी भी खेल चुके हैं। अनिल कुमार का सफल आप्रेशन करने वाले डाक्टर बाशा जे खान व डाक्टर जूलियस पुन्नेन ने आज यहां पत्रकारों से बातचीत में बताया कि यह गंभीर बीमारी है। समय में उपचार के अभाव में यह लंग कैंसर में बदल सकती है। आश्चर्यजनक बात यह है कि मेडिकल साइंस में इस बीमारी को डाईगनोज किया जाना मुश्किल है। क्योंकि शुरू में मरीजों के रेफरल सेंटर में आने से पहले अस्थमा, टीबी आदि का इलाज किया जाता है।

 

अब तक अपनी टीम के साथ करीब सात सौ पल्मोनरी थ्रोम्बोइंडरटरएक्टोमी (पीटीई) सर्जरी कर चुके डाक्टर खान व पुन्नेन ने बताया कि सीटीईपीएच आमतौर पर गंभीर रक्त के क्लोट्स के कारण होता है। फेफड़ों में टिश्यू बनकर पल्मोनरी वेसल्स का रास्ता बंद कर देते हैं। पीटीई में इन्हीं क्लोट्स को निकालने का काम किया जाता है। उन्होंने बताया कि सीटीईपीएच डाईगनोज की तकनीक में कई तरह की आधुनिकताएं आई हैं, जो रोगियों के लिए कारगर सिद्ध हो रही हैं।

Have something to say? Post your comment
और चंडीगढ़ न्यूज़
ताजा न्यूज़
सैमसंग इंडिया ने लॉन्च किया सैमसंग ई.डी.जी.ई. कैम्पस प्रोग्राम का पांचवां संस्करण ड्रीम11 आईपीएल 2020 से पहले सोनू सूद एवं डिज़्नी+ हॉटस्टार वीआईपी मिलकर क्रिकेट का जोश बढ़ाएंगे। ‘तेरे नशे में चूर’ गाने में लोगों को पसंद आ रहा है गजेंद्र वर्मा का नया अवतार पर्यावरण संकट का समाधान भारतीय संस्कृति में व्याप्त प्रकृति के सम्मान की भावना से ही संभव : डॉ. चौहान ज़ेनोफ़र की सीरीज ‘स्पेक्टर’ को ऑडियंस और क्रिटिक्स से मिल रही है सराहना यूनिक होने के साथ ही इंट्रेस्टिंग भी है फिल्म हेलमेट की कहानी- रोहन शंकर भाई - बहन के रिश्ते को दर्शाती है एमएक्स प्लेयर की सीरीज 'स्वीट एन सोर' फैजान अंसारी बॉलीवुड में एंट्री करने के लिए पूरी तरह से तैयार है ज़ेन फिल्म्स प्रोडक्शंस की हॉरर मिस्ट्री 'स्पेक्टर' रिलीज होने के लिए तैयार है बेअदबी मामला: डेरा के वकीलों ने सरकार व पुलिस पर उठाए सवाल अपने नए सॉन्ग जीत जाएंगे हम के साथ धमाल मचा रहे हैं रैपर क्रेजी किंग अपने नए सॉन्ग जीत जाएंगे हम के साथ धमाल मचा रहे हैं रैपर क्रेजी किंग
Copyright © 2016 AbhitakNews.com, A Venture of Lakshya Enterprises. All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech