Tuesday, 20 October, 2020
ब्रेकिंग न्यूज़ :
कैलाश खेर ने बुलंदशहर के लोगों से की वोट डालने की अपीलयामी गौतम और विक्रांत मैसी का सॉन्ग "फूंक फूंक" मचा रहा धमाल, म्यूजिक कंपोजर गौरव चटर्जी की हो रही प्रशंसासैमसंग इंडिया ने लॉन्च किया सैमसंग ई.डी.जी.ई. कैम्पस प्रोग्राम का पांचवां संस्करणड्रीम11 आईपीएल 2020 से पहले सोनू सूद एवं डिज़्नी+ हॉटस्टार वीआईपी मिलकर क्रिकेट का जोश बढ़ाएंगे।पर्यावरण संकट का समाधान भारतीय संस्कृति में व्याप्त प्रकृति के सम्मान की भावना से ही संभव : डॉ. चौहानबेअदबी मामला: डेरा के वकीलों ने सरकार व पुलिस पर उठाए सवालचीन-भारत संबंधों को तर्कसंगत बनाए रखना चाहिए, भावनाओं को नियंत्रित रखना भी बहुत महत्वपूर्ण हैडॉ. दीपक ज्योति ने पंजाब राज्य बाल अधिकार सुरक्षा आयोग के मैंबर के तौर पर पद संभालासुशांत मर के भी अमर हो गया - कुमार सानूमुख्यमंत्री ने पालमपुर तथा कांगड़ा के भाजपा महिला मोर्चा की वर्चुअल रैलियों को संबोधित किया
नेश्नल न्यूज़

पत्रकारों के कमज़ोर होने से कमज़ोर होगा लोकतंत्र - सरकार

March 24, 2018 08:15 AM

नई दिल्ली - सरकार ने आज स्वीकार किया कि मीडिया संस्थानों में पत्रकार एवं गैर पत्रकार कर्मचारियों को अनुबंध पर नौकरी और मजीठिया वेतनबोर्ड के क्रियान्वयन न होने का मामला वाकई में लोकतंत्र के चौथे स्तंभ को कमजोर कर रहा है तथा इसके समाधान के लिए विशेष प्रयास की ज़रूरत है।

केन्द्रीय श्रम एवं रोज़गार राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) संतोष गंगवार ने यहां एक कार्यक्रम में नेशनल यूनियन आफ जर्नलिस्ट और दिल्ली जर्नलिस्ट एसोसियेशन के नवनिर्वाचित पदाधिकारियों को सम्मानित किया। कार्यक्रम में जल संसाधन एवं संसदीय कार्य राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल एवं सांसद धर्मेन्द्र कश्यप भी मौजूद थे।

कार्यक्रम में देश के जाने-माने पत्रकारों ने मंत्रियों को लोकतंत्र के चौथे स्तंभ के कामकाज की दशाओं की जानकारी दी। वयोवृद्ध पत्रकार एवं एनयूजे आई के संस्थापक सदस्य राजेन्द्र प्रभु, के एन गुप्ता, विजय क्रांति ने कहा कि ठेके पर नौकरी के चलन ने पत्रकारों एवं पत्रकारिता को कमज़ोर कर दिया है। पत्रकारों को सामाजिक सुरक्षा नहीं है और उनका जीवन अनिश्चितता से भरा है। सरकार को इन विसंगतियों को दूर करने के लिए कुछ करना चाहिए। महिला पत्रकारों ने भी अपनी दिक्कतों से उन्हें अवगत कराया।

वयोवृद्ध पत्रकार एवं एनयूजे आई के संस्थापक सदस्य राजेन्द्र प्रभु, के एन गुप्ता, विजय क्रांति ने कहा कि ठेके पर नौकरी के चलन ने पत्रकारों एवं पत्रकारिता को कमज़ोर कर दिया है। पत्रकारों को सामाजिक सुरक्षा नहीं है और उनका जीवन अनिश्चितता से भरा है। 

इस असवर पर श्री गंगवार ने मजीठिया वेतन बोर्ड की सिफारिशों को सुचारु रूप से लागू करने, पत्रकारों की समस्याओं को दूर करने और उनकी मांगों पर गंभीरता से विचार करने का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि उन्हें मीडिया संस्थानों में पत्रकारों को अनुबंध पर नियुक्त  करने, मजीठिया वेतन बोर्ड को लागू करने से जुड़ी दिक्कतों और पत्रकारों की अन्य समस्याओं से अवगत कराया जाता रहा है। वह पत्रकारों की दिक्कतों को दूर करने को लेकर काफी संजीदा है और इस बारे में चर्चा करने के लिए हमेशा उपलब्ध हैं। उन्होंने अगले सप्ताह पत्रकार संगठनों के पदाधिकारियों को वार्ता के लिए अपने कार्यालय में आमंत्रित भी किया।

केन्द्रीय श्रम मंत्री ने कहा कि वह असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों की समस्याओं को लेकर बहुत गंभीर हैं। देश में असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले 40 करोड़ लोगों को राहत एवं सुरक्षा देने के लिए काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार श्रम कानूनों को तर्कसंगत बनाने के लिए प्रतिबद्ध है और वह 40 कानूनों को मिला कर चार कानून बनाने वाली है जिनमें श्रमजीवी पत्रकारों से जुड़े मामलों का विशेष ध्यान रखा जाएगा।

श्री मेघवाल ने माना कि यदि पत्रकार स्वतंत्र, सुरक्षित एवं निर्भीक नहीं रहेंगे तो लोकतंत्र भी सुरक्षित नहीं रहेगा। उन्होंने स्वीकार किया कि संसद की विभिन्न समितियों की बैठक में ठेके पर नौकरियों एवं मजीठिया वेतन बोर्ड का मामला आता रहा है लेकिन पहले यह उतना गंभीर नहीं लगा लेेकिन आज उन्हें इसकी गंभीरता का अहसास हुआ है। वह मानते हैं कि निश्चित रूप से पत्रकार समाज की सूरत में बदलाव आना चाहिए और सरकार इसके लिए गंभीरता से विचार करेगी।

Have something to say? Post your comment
और नेश्नल न्यूज़
ताजा न्यूज़
कैलाश खेर ने बुलंदशहर के लोगों से की वोट डालने की अपील यामी गौतम और विक्रांत मैसी का सॉन्ग "फूंक फूंक" मचा रहा धमाल, म्यूजिक कंपोजर गौरव चटर्जी की हो रही प्रशंसा सैमसंग इंडिया ने लॉन्च किया सैमसंग ई.डी.जी.ई. कैम्पस प्रोग्राम का पांचवां संस्करण ड्रीम11 आईपीएल 2020 से पहले सोनू सूद एवं डिज़्नी+ हॉटस्टार वीआईपी मिलकर क्रिकेट का जोश बढ़ाएंगे। ‘तेरे नशे में चूर’ गाने में लोगों को पसंद आ रहा है गजेंद्र वर्मा का नया अवतार पर्यावरण संकट का समाधान भारतीय संस्कृति में व्याप्त प्रकृति के सम्मान की भावना से ही संभव : डॉ. चौहान ज़ेनोफ़र की सीरीज ‘स्पेक्टर’ को ऑडियंस और क्रिटिक्स से मिल रही है सराहना यूनिक होने के साथ ही इंट्रेस्टिंग भी है फिल्म हेलमेट की कहानी- रोहन शंकर भाई - बहन के रिश्ते को दर्शाती है एमएक्स प्लेयर की सीरीज 'स्वीट एन सोर' फैजान अंसारी बॉलीवुड में एंट्री करने के लिए पूरी तरह से तैयार है ज़ेन फिल्म्स प्रोडक्शंस की हॉरर मिस्ट्री 'स्पेक्टर' रिलीज होने के लिए तैयार है बेअदबी मामला: डेरा के वकीलों ने सरकार व पुलिस पर उठाए सवाल
Copyright © 2016 AbhitakNews.com, A Venture of Lakshya Enterprises. All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech